₹2000 की नगद राशि जननी सुरक्षा योजना ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कैसे करे | janani suraksha yojana form kaise bhare

जननी सुरक्षा योजना जननी सुरक्षा योजना फॉर्म PDF जननी सुरक्षा योजना के लाभ जननी सुरक्षा योजना पोर्टल जननी सुरक्षा योजना ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन Janani Suraksha Yojana Online Apply

जननी सुरक्षा योजना भारत सरकार का एक लोकप्रिय योजना है। इस सरकारी योजना के तहद देश के गरीब और आर्थिक रूप से कमजोर महिलाओ को आर्थिक सहायता दि जाती है।

जननी सुरक्षा योजना के माध्यम से देश के गरीब महिलाओ को प्रसव के बाद देखभाल के लिए 2000 रुपयों की आर्थिक सहायता दी जाती है। इस सरकारी योजना के अंदर भी कुछ कैटेगरी बनाया गया है और उसके तहत इस योजना का लाभ पहुंचाया जाता है

योजना का नाम जननी सुरक्षा योजना
पोस्ट केटेगरीसरकारी योजना
लाभार्थीगरीब और आर्थिक रुप से कमजोर गर्भवती महिला
योजना से लाभआर्थिक सहायता
शुरुआत2005
चलाने वाले संस्थाराष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन
योजना का मुख्य उद्देश्यप्रसव के दौरान नवजात और माताओं को सुरक्षित रखना

हमेशा की तरह आज भी हम लोग इस योजना के बारे में विस्तार से जानकारी लेने की कोशिश करेंगे। जैसे कि जननी सुरक्षा योजना क्या है? इस योजना का विशेषताएं? इस योजना से फायदा कैसे लिया जा सकता है? और जननी सुरक्षा योजना ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कैसे किया जा सकता है?

जननी सुरक्षा योजना क्या है | Janani Suraksha Yojana

जननी सुरक्षा योजना बहुत पहले से चलते हुए आ रहे हैं इस योजना का शुभारंभ 12 अप्रैल 2005 में की गई थी। अब से लेकर आज तक इस योजना का लाभ देश के हर एक गरीब और आर्थिक रुप से कमजोर महिलाओ को प्रसव के बाद पहुंचाया जाता है।

जननी सुरक्षा योजना अनलाइन अप्लाइ
जननी सुरक्षा योजना 2022

इसका मतलब यह है कि यह योजना केवल गर्भवती महिलाओं के लिए लागू है और महिलाओं को प्रसव के बाद इस योजना का लाभ दिया जाता है।

जननी सुरक्षा योजना (JSY) राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत चलाया जाता है। इसमें सुरक्षित मातृत्व को दर्शाता है। जननी सुरक्षा योजना में केंद्र सरकार का सम्पूर्ण योजदान है, जो डिलीवरी और डिलीवरी के बाद माँ और शिशु को देखभाल के लिए आर्थिक सहायता दी जाती है।

जननी सुरक्षा योजना का उदेश्य

जननी सुरक्षा योजना की मुख्य उद्देश्य गांव में रहने वाले महिला को स्वस्थ रुप से प्रसव में सहायता करना। गौर से देखने पर जननी सुरक्षा योजना के माध्यम से सरकार ने गर्भवती माताओं और स्वास्थ्य कर्मी अर्थात ASHA कर्मी के अंदर अच्छे संपर्क जोड़ देते हैं।

क्योंकि एक गर्भवती माताओं के साथ साथ ASHA कर्मी को भी इस योजना के तहत कुछ पैसे दे जाती है, जिसके बारे में हम विस्तार से बात करेंगे।

जननी सुरक्षा योजना के जरिए सरकार यह चाहता है कोई भी गर्भवती महिलाओं को प्रसव के आपातकालीन अवस्था में दूर अस्पताल ले जाने की बदले उसे स्थानीय स्वास्थ्य केंद्र या अस्पताल में प्रसव करवाया जाए।

इससे गर्भवती महिलाओं को कम कष्ट मिलता है और शिशु मृत्यु दर बहुत कम हो जाती है।

जननी सुरक्षा योजना का रूपरेखा

जननी सुरक्षा योजना के रूपरेखा बनाने के समय कुछ चीजों के ऊपर ध्यान दी गई है। इस योजना में पूरे देश को दो श्रेणी में बांटा गया है।

Low Performing States (LPS). – यह पहला कैटेगरी के अंदर देश की उन सभी राज्यों को चुना गया है जिन सभी राज्यों में संस्थागत प्रसव दर कम है। जैसे कि, उत्तर प्रदेश, उत्तरांचल।, बिहार, झारखंड, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, आसाम, राजस्थान, उड़ीसा, जम्मू एंड कश्मीर।

High Performing States (HPS). – और बाकी बचा जितने भी राज्य हैं उन सभी को यह दूसरी श्रेणी के अंदर डाला गया है और इसमें देखा जाए तो संस्थागत प्रसव दर अच्छा है।

जननी सुरक्षा योजना का विशेषताएं | key Features of JSY Government Scheme

जैसे कि मैंने पहले भी बताया हूं जननी सुरक्षा योजना गरीब और आर्थिक रुप से कमजोर गर्भवती महिलाओ केंद्रित करके बनाया गया है, तो इसका बिशेषताए कि जिन सारे इलाका में संस्थागत प्रसव दर कम है वहां पर इस दर को बढ़ाया जाए।

इसमें आशा कर्मी (ASHA) या फिर आंगनवाड़ी कर्मी (AWW) का बहुत बड़ा रोल होता है। आशा कर्मचारी उनके इलाके में कोई भी गर्भवती महिला को डिलीवरी तारीख से पहले ही अर्थात 20 से 24 हफ्ता पहले इन सभी महिलाओं को चिन्हित करके उन्हें इस योजना में शामिल करने का काम करना होता है।

इससे पहले से ही एक गर्भवती महिला की डिलीवरी को लेकर रूपरेखा तैयार हो जाता है। जिससे कि नवजात शिशु या फिर उनके माताओं को किसी भी प्रकार की कोई नुकसान ना पहुंचे।

गर्भवती महिला को डिलीवरी के बाद नगद राशि भी दी जाती है ताकि उनकी और उनके नवजात बच्चे की देखभाल हो सके।

और साथ में इन पूरे समय में साथ रहने वाले आशा कर्मचारी को भी कुछ परिमाण नगद राशि दी जाती है।

  • यह सरकारी स्कीम देश की हर एक राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों में लागू है।
  • इस योजना के तहत गर्भवती महिलाओं को डिलीवरी के बाद आर्थिक सहायता दी जाती है।
  • इस योजना के माध्यम से गर्भवती महिलाओं को सरकार के निगरानी में रखा जाता है।
  • प्रसव के दौरान कोई भी खर्चा नहीं लगता है।
  • प्रसव के बाद अगले 10 साल तक बच्चे के लिए हर एक टीकाकरण की जानकारी आशा कर्मचारी द्वारा दी जाती है।
  • जो भी महिला इस योजना का लाभ लेना चाहता है, उनको पहले से ही आशा कर्मचारी द्वारा जननी सुरक्षा योजना कार्ड बनवा लेना है।
  • आशा कर्मचारी द्वारा गर्भवती महिलाओं को खाने की सुझाव की जाती है। साथ में कुछ दवा भी स्वास्थ्य केंद्र से उपलब्ध करवाया जाता है।
  • प्रसव के समय महिलाओं के घर से नजदीकी अस्पताल या स्वास्थ्य केंद्र तक जाने के लिए एंबुलेंस का भी व्यवस्था बिल्कुल मुफ्त में मिलता है।

Janani Suraksha Yojana के लिए डाक्यूमेंट्स

जननी सुरक्षा योजना के लिए दस्तावेज आपके पास होना जरूरी है उसकी लिस्ट को ध्यान से देखिए।

सबसे पहले गर्भवती महिलाओं की आधार कार्ड के साथ-साथ गरीबी रेखा से नीचे का राशन कार्ड होना जरूरी है। निवास के प्रमाण पत्र और घर के जो पता है उसका सबूत आपको देना पड़ेगा।

जननी सुरक्षा कार्ड अभी तक नहीं बना हुआ है तो वह भी बना लीजिए, पासपोर्ट साइज हाल ही में खींची गई फोटो, मोबाइल नंबर, और बैंक खाते की जानकारी देना जरूरी है। सरकारी अस्पताल जहां पर डिलीवरी हुआ है उसका सर्टिफिकेट भी बहुत जरूरी है।

  • आधार कार्ड
  • रैशन कार्ड (बीपीएल-गरीबी रेखा से नीचे)
  • मोबाईल नंबर
  • बैंक कहते की जानकारी
  • पासपोर्ट साइज़ फोटोग्राफ
  • जननी सुरक्षा कार्ड
  • अस्पताल का सर्टिफिकेट (जहा प्रसब हुआ है)

जननी सुरक्षा योजना के तहत दी जाने सहायता राशि | बच्चा होने पर कितने पैसा मिलता है

आब बात करते हैं जननी सुरक्षा योजना के तहत दी जाने वाली सहायता राशि कितना है? अर्थात बच्चा होने पर कितना पैसा मिलता है?

मैंने पहले ही बात किया हूं जननी सुरक्षा योजना की रूपरेखा के अंदर इस योजना को दो श्रेणी में बांटा गया है पहला है Low Performing States (LPS) और दूसरा है high Performing States (HPS)।

इसके अंदर भी और दो कैटेगरी जोड़ा गया है जैसे कि ग्रामीण क्षेत्र अर्थात Rural Area और शहरी क्षेत्र अर्थात Urban Area.

तो सबसे पहले हम लोग LPS कि ग्रामीण क्षेत्र और शहरी क्षेत्रों को समझते हैं।

LPS की ग्रामीण क्षेत्र में कुल ₹2000 जननी सुरक्षा योजना के तहत दी जाती है, जिनमें माताओं को मिलते हैं 1400 रूपया और आशा कर्मचारी को मिलता है 600 रूपया।

LPS की शहरी क्षेत्र में कुल ₹1400 जननी सुरक्षा योजना के तहत दी जाती है, जिनमें माताओं को मिलते हैं 1000 रूपया और आशा कर्मचारी को मिलता है 400 रूपया।

अब हम लोग HPS कि ग्रामीण क्षेत्र और शहरी क्षेत्रों को समझते हैं।

जननी सुरक्षा योजना के तहत HPS कि ग्रामीण क्षेत्र में कुल 1300 रूपया दी जाती है जिनमें माताओं को मिलता है 700 रूपिया और आशा कर्मचारियों को मिलता है 600 रूपिया।

HPS की शहरी क्षेत्र में इस योजना के तहत कुल 1000 रुपया दी जाती है जिनमें माताओं को मिलते हैं 600 रूपया और आशा कर्मचारियों को मिलता है 400 रूपया।

Low Performing State (LPS)माताओं को मिलने वाला राशिआशा कर्मचारी को मिलने वाला राशि
ग्रामीण क्षेत्र (Rural Area)₹1400₹600
शहरी क्षेत्र (Urban Area)₹1000₹400
High Performing State (HPS)माताओं को मिलने वाला राशिआशा कर्मचारी को मिलने वाला राशि
ग्रामीण क्षेत्र (Rural Area)₹700₹600
शहरी क्षेत्र (Urban Area)₹600₹400

जननी सुरक्षा योजना अनलाइन आवेदन कैसे करे

जननी सुरक्षा योजना ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करने के लिए आपको जननी सुरक्षा योजना पोर्टल पर जाना होगा। जिसका लिंक मैंने नीचे दे रखा हूँ, और वहां पर जाकर उन ऑफिशल वेबसाइट से आपको जननी सुरक्षा योजना फॉर्म PDF डाउनलोड करना है।

आपको सबसे पहले आपके मोबाइल या कंप्यूटर में स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार की आधिकारिक वेबसाइट जन होगा।

योजना का नाम जननी सुरक्षा योजना
अधिकारिक वेबसाइटhttps://nhm.gov.in/
जननी सुरक्षा योजना

स्टेप 1: सबसे पहले आपको मेनू बार मे “NHM Components’ पर क्लिक करना है। ठीक उसके नीचे आपको और एक ऑप्शन दिखाई देगा ‘RMNCH+A’ इसमे क्लिक करना है।

janani suraksha Yojana

स्टेप 2: अब आपके सामने एक नया पेज ओपन होगा जहां पर नीचे या दाहिने साइड में ‘Maternal Health’ नाम पर एक ऑप्शन दिखाई देगा, उसके ऊपर क्लिक करना है।

janai suraksha Scheme

सटेप 3: अब आपके सामने फिर से एक नया पेज ओपन होगा जिसके नीचे या डाइनर साइड में आपको ‘Janani Suraksha Yojana’ नाम का एक ऑप्शन दिखाई देगा, उसके ऊपर फिर से क्लिक करना है।

अब आपके सामने जो पेज ओपन होगा वह सिर्फ जननी सुरक्षा योजना के बारे में जानकारी मिलेगा। अगर आपको जननी सुरक्षा योजना फॉर्म PDF डाउनलोड करना है तो इसी पेज के नीचे या दाहिने साइड में आपको डाउनलोड करने का ऑप्शन मिल जाएगा।

डाउनलोड करने के बाद आप जननी सुरक्षा योजना के बारे में जानकारी पढ़ सकते हो एवं उसके एकदम नीचे आपको जननी सुरक्षा योजना ऑनलाइन आवेदन फॉर्म मिल जाएगा।

लेकिन ज्यादातर केस में आपको खुद जननी सुरक्षा योजना की फ्रॉम भरने की कोई आवश्यकता नहीं है। आपको सिर्फ गर्भवती महिलाओं के बारे में आशा कर्मचारियों को खबर करना है। और वह लोग जननी सुरक्षा योजना से जुड़ी सारे काम को कर देगा।

या फिर, आप नजदीकी अस्पताल में संपर्क कर सकते हो वहां भी जननी सुरक्षा योजना की सारे जानकारी आपको दी जाएगी एवं आपको इस योजना में शामिल कर लिया जाएगा।

जननी सुरक्षा योजना हेल्पलाइन नंबर

ऐसे तो जननी सुरक्षा योजना से जुड़े हेल्पलाइन नंबर आपके आशा कर्मचारी की नंबर होती है। अर्थात जब आप स्थानीय स्वास्थ्य केंद्र से जननी सुरक्षा कार्ड बना लेंगे तो उस कार्ड के ऊपर आशा कर्मचारी का नंबर लिखा रहता है। कोई भी आपातकालीन परिस्थितियों में आप उन नंबर पर फोन कर सकते हो।

फिर भी अगर आप नेशनल हेल्थ मिशन की ऑफिशियल वेबसाइट का हेल्पलाइन नंबर चाहते हो तो, आप को फिर से ऊपर दी गई लिंक के ऊपर क्लिक करना होगा, और मेनू बार से “Contact Us” बटन के ऊपर क्लिक करना है और सबसे नीचे ‘States/UTs Official’ पर क्लिक करना है।

यह करने के बाद आपके सामने सभी राज्य की हेल्पलाइन नंबर की सूची दिखाई देगा या फिर आप चाहते हो तो इसको PDF फॉर्मेट में डाउनलोड भी कर सकते हो।

FAQ Janani Suraksha Yojana 2022

जननी सुरक्षा योजना कब शुरू हुई?

12 अप्रैल 2005 जननी सुरक्षा योजना की शुरुआत हुई थी नेशनल हेल्थ मिशन के तहत इस योजना को शुरुआत की गई थी तब से लेकर आज तक इस योजना से गरीब और आर्थिक रुप से कमजोर महिलाओं को प्रसव कालीन समय पर आर्थिक सहायता मिलता है

बच्चा होने पर कितना पैसा मिलता है?

बच्चा होने पर जननी सुरक्षा योजना के तहत जो पैसा मिलता है उनको चार श्रेणी में बांटा गया है आप यह समझ सकते हो अधिक से अधिक ₹1400 कम से कम ₹600 मिलेगा

जननी सुरक्षा योजना का पैसा कब मिलता है?

देश की गरीब और आर्थिक रुप से कमजोर महिलाओं को जननी सुरक्षा योजना के तहत प्रसव के बाद नवजात और माताओं को देखभाल के लिए दी जाती है। और यह राशि प्रसब के अगले 7 दिन के अंदर दी जाती है

Rate this post
Share on:

Leave a Comment